Welcome to folkartopedia archives.

What are you looking for in the Archives?

Sanjeev Sinha

लोक का जीवन संघर्ष और लोक कला

चाहे सत्ता-संस्कृति हो या बाजारवादी संस्कृति, दोनों की कोशिश लोक कला को परंपरा, धर्म व रूढ़ी की बेड़ियों में जकड़ कर एक दरबारी, रूढ़िवादी व सजावटी कला बना देने की रही है।

Read More »
Receive the latest update

Subscribe To Our Weekly Newsletter

Get notified about new articles