Welcome to folkartopedia archives.

What are you looking for in the Archives?

Artists

मनोहर लाल भुगड़ा: प्रिंट-मेकिंग की जटिलताओं से जूझने वाला एक जुनूनी

लखनऊ का एक ऐसा प्रिंट-मेकर जिसमें प्रिंट-मेकिंग की तकनीकी जटिलताओं से जूझने का जुनून था, जिसने तकनीकी उत्कृष्टता हासिल की और अपनी एक अलग पहचान बनायी।

Read More »

पद्मश्री प्रोफेसर श्याम शर्मा : एक संस्मरण, लखनऊ-1966

प्रिंट-मेकिंग में पोस्ट डिप्लोमा करने की इच्छा लिए एक छात्र मेरे पास आया। मुझे लगा, कमर्शियल आर्ट का डिप्लोमा करनेवाला प्रिंट-मेकिंग में काम कर पायेगा ?

Read More »

हर खूबसूरत तस्वीर कला नहीं हो सकती: दयानिता सिंह, वरिष्ठ फोटोग्राफर

किसी तस्वीर को इस वजह से कला नहीं कहा जा सकता क्योंकि वह खूबसूरत है, ठीक वैसे ही जैसे हर खूबसूरत पंक्तियों का क्रम कविता नहीं बन जाती है।

Read More »

बिहार में आधुनिक कला के उत्प्रेरक: बटेश्वरनाथ श्रीवास्तव

आजादी के बाद पचास के दशक में बिहार के समकालीन चित्रकला में आधुनिकता का प्रवेश और उसके विकास के उत्प्रेरक के रूप में बी.एन. श्रीवास्तव का नाम अग्रगणी है।

Read More »

लोक का जीवन संघर्ष और लोक कला

चाहे सत्ता-संस्कृति हो या बाजारवादी संस्कृति, दोनों की कोशिश लोक कला को परंपरा, धर्म व रूढ़ी की बेड़ियों में जकड़ कर एक दरबारी, रूढ़िवादी व सजावटी कला बना देने की रही है।

Read More »

उर्मिला देवी पासवान: लोककलाओं की परिधि के पार एक कलाकार

गोदना कला में मोटिव्स के साथ प्रयोग की प्रवृति उर्मिला देवी में चानो देवी से आती है और वह प्रवृति इतनी तेज है कि लोककलाओं की परिधि को अक्सर तोड़ती नजर आती है।

Read More »

‘पेगासस’ का मिथक और सलहेस के घोड़े: लाला पंडित

दरभंगा के छोटे से मोहल्ले के कुम्हारटोली में जन्मे लाला पंडित के बारे में यह किसी ने नहीं सोचा था कि वे घोड़ा बनाते-बनाते अपने लिये मिथकीय ‘पेगासस’ को साकार कर देंगे।

Read More »

उत्तम प्रसाद पासवान की कला यात्रा और एक अनोखा ‘ब्रह्माण्ड’

गोदना कला जिन कलाकारों की वजह से चर्चा में आई, उनमें एक हैं उत्तम। उन्होंने चानो देवी से गोदना कला सीखी और ऐसा सम्मोहक ‘ब्रह्माण्ड’ रच डाला जिससे निकलना आसान नहीं है।

Read More »

समाज ने ‘अवरोध’ खड़े किये, हमने उन्हें अवसर में बदल दिया: शांति देवी

अवरोध अवसर भी हो सकते हैं, मिथिला कला में शांति देवी की कला यात्रा इस बात को साबित करती है। जब-जब अवरोध सामने आए, शांति देवी उन्हें अवसर में बदलती गयीं।

Read More »

चानो देवी (1955-2009): गोदना चित्रकला की सूत्रधार

मिथिला की चित्र परंपराओं में गोदना चित्रकला एक अस्वाभाविक घटना थी। चानो ने अपनी सूझ-बूझ से उसे न केवल ‘स्वाभाविक’ बनाया, बल्कि एक नयी कलाधारा की शुरुआत भी की।

Read More »

फिरंगी लाल गुप्ता: बिहार के एक अनोखे संगतराश

“हाथी ऐश्वर्य लाता है। मैं साक्षी हूं। वह मार्बल का ही क्यों न हो। अन्यथा किसने सोचा था कि जिसके पास खिलौने खरीदने भर के पैसे नहीं थे, वह देश-विदेश को अपनी कला दिखाएगा।”

Read More »

मिथिला चित्रकार बिमला दत्त: एक परिचय

परंपरागत मिथिला चित्रकला की पुरोधा कलाकारों में बिमला दत्त का नाम प्रमुखता से लिया जाता है। वह मुख्यत: लाइन शैली में चित्रण करती हैं और चित्रों में परंपरागत विषयों को महत्व देती हैं।

Read More »

बिहार के पहले आधुनिक मूर्तिकार: पाण्डेय सुरेंद्र

हमारे समय में मूर्तिकला का अर्थ था सिर्फ ‘पोर्ट्रेचर’। उससे आमदनी भी हो जाती थी। इसलिए मैंने भी पोट्रेट्स बनाने की शुरुआत की, 1965 में : पाण्डेय सुरेंद्र

Read More »

कला नितांत ही व्यक्तिगत साधना है: पद्मश्री श्याम शर्मा

आर्ट कॉलेज की स्थिति यह है कि मेरे पास लोटा भर पानी है और छात्र उम्मीद कर रहे हैं कि उन्हें बाल्टी भर पानी मिल जाए। यह कैसे संभव है। हमने अपने पात्र बड़े किये ही नहीं।

Read More »

सिक्की कला की बदौलत आत्मनिर्भर हुईं गांव की महिलाएं: मुन्नी देवी

चाहे बच्चों की जरूरतों को पूरा करना हो, अपने ऊपर खर्च करना हो, किसी को टिकुली-बिन्दी, साड़ी-ब्लाउज या अपनी पसंद का कोई अन्य सामान लेना हो, हम अपने परिवार से पैसा नहीं मांगते।

Read More »

संघर्ष की भट्ठी में तपकर निकले कलाकार ब्रह्मदेव राम पंडित

मिट्टी से कलाकृतियां बनाना जटिल और श्रमसाध्य काम है। इसके लिए काफी धैर्य की जरूरत होती है क्योंकि एक कलाकृति कई चरणों से गुजरने के बाद पूरी होती है।

Read More »

कला पहले व्यक्ति को व्यक्ति से जोड़ती है : पद्मश्री गोदावरी दत्त

कला पहले व्यक्ति से व्यक्ति को जोड़ती है, फिर व्यक्ति से समाज को। मेरे लिए व्यक्ति और समाज अर्द्धनारीश्वर की तरह एक दूसरे पर आश्रित हैं।

Read More »

सिक्की कला ने संवार दी ‘सूरत’: नाजदा खातून

गरीबी को आमलोग अपनी नियति मान लेते हैं। नाजदा ने गरीबी के खिलाफ नियति से जंग छेड़ दी। दादी ने सिक्की से खेलना सिखाया था, उन्होंने सिक्की से कामयाबी की इबारत लिख दी।

Read More »

कला संवादों से निखरती है हमारी कला: पद्मश्री प्रो. श्याम शर्मा

बिहार की कला में समकालीनता के तत्व सबसे पहले बीसवीं शताब्दी के पूर्वार्ध में दिखते हैं। इसी समय पटना कलम में नये विषय शामिल हुए, चित्रण हेतु नये माध्यम अपनाए गये और चित्रों में नये प्रयोग भी हुए।

Read More »

कला परंपराओं का संरक्षण म्यूजियम की जिम्मेदारी: टोकियो हासेगावा

“बिहार की लोक-शिल्प परंपराओं के विकास में उपेंद्र महारथी के बाद यह संस्थान काफी कुछ कर रहा है, यह सराहनीय है क्योंकि उपेंद्र महारथी के बाद इस मद में ध्यान देने वाला कोई नहीं था – हासेगावा”

Read More »

प्रतीकों की लड़ाई का परिणाम हैं गोदना चित्र: शिवन पासवान

आज गोदना कला में अनेक युवा कलाकार बढ़िया चित्र बना रहे हैं, लेकिन उसमें कोमलता का भाव गायब है। वे कमाई करने वाली मशीन बनते जा रहे हैं।

Read More »

अथक साधना के बाद दीर्घायु होती है कला: पद्मश्री बउवा देवी

“देश में मिथिला कला का कोई म्यूजियम नहीं है, सरकार को चाहिए कि जल्दी से जल्दी मिथिला कला का एक बढ़िया म्यूजियम बनवाये, जैसे बिहार म्यूजियम बना है, उससे भी अच्छा।”

Read More »
Receive the latest update

Subscribe To Our Weekly Newsletter

Get notified about new articles